Universities Likely To Commence Odd Semester Classes For Academic Year 2020-21 From 18 November 2020

By | October 8, 2020

Universities Likely To Commence Odd Semester Classes From This Date: मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो एकेडमिक सेशन 2020-21 के लिए ऑड सेमेस्टर की क्लासेस नवंबर के महीने में आरंभ हो सकती हैं. अगर स्थितियां नियंत्रण में रही तो 18 नवंबर से ऑड सेमेस्टर की क्लासेस आरंभ हो जाएंगी. यूजीसी के प्लान के मुताबिक ऑड सेमेस्टर की शुरुआत नवंबर महीने से ही होनी थी. 21 सितंबर को हुई मीटिंग में यह तय किया गया था. अगर ऐसा हो जाता है तो सब नियमों के मुताबिक ही होगा. इसी के अंतर्गत विभिन्न संस्थानों को 31 अक्टूबर 2020 तक एडमिशन प्रक्रिया पूरी करने के लिए कहा गया है ताकि 01 नवंबर 2020 से क्लासेस आरंभ हो सकें.

अगर किसी क्वालीफाइंग एग्जाम के रिजल्ट डिक्लेयर होने में समय होगा तो ऐसी स्थिति में उन संस्थानों को 18 नवंबर तक क्लासेस आरंभ करने की छूट दी जाएगी.

 

ऐसे होंगे नये नियम –

यूजीसी ने एकेडमिक कैलेंडर लेट होने की वजह से कुछ छोटे-छोटे नियम बनाए हैं जिनका पालन यूनिवर्सिटीज को करना है. जैसे साल 2020-21 और 2021-22 के लिए हफ्ते के छ दिन क्लासेस कराने के निर्देश दिए गए हैं, जो पहले हफ्ते के पांच दिन होती थी. ऐसा इसलिए ताकि लॉकडाउन के दौरान हुए पढ़ाई के नुकसान की जहां तक संभव हो भरपाई की जा सके. यही नहीं संस्थानों को ये भी कहा गया है कि वे ऑनलाइन और ऑफलाइन यानी ब्लंडेड मोड में क्लासेस कराएं.

इसके साथ ही यूजीसी ने शैक्षणिक संस्थाओं से कम से कम छुट्टी या ब्रेक्स लेने के लिए कहा है ताकि स्टूडेंट्स को समय पर सेमेस्टर खत्म करके रिजल्ट दिया जा सके.

एडमिशन कैंसिल करने पर वापस होगी पूरी फीस –

एक महत्वपूर्ण फैसले में यूजीसी ने ये भी कहा है कि उस केस में जब कोई स्टूडेंट अपना एडमिशन कैंसिल करता है तो उसे पूरी फीस वापस दी जाएगी. कोरोना और लॉकडाउन की वजह से लोग पहले से ही बहुत सी आर्थिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं. ऐसे में उन पर और फाइनेंशियल बोझ नहीं डाला जाएगा. सभी कॉलेजेस को निर्देश हैं कि वे 1000 रुपए प्रॉसेसिंग फीस से ज्यादा किसी भी स्टूडेंट के पैसे न काटें. इसके साथ ही यह सुविधा भी दी गई है कि अगर स्टूडेंट्स 30 नवंबर के पहले अपना एडमिशन विदड्रॉ कर लेते हैं तो उनके बिलकुल भी पैसे ना काटें जाएं.

CBSE ने क्लास 7 से 10 के लिए लांच की मैथ्स की नई प्रैक्टिस बुक, क्रिटिकल थिंकिंग पर देगी जोर

IAS Success Story: दो साल, दो प्रयास, दोनों में पास, क्या है मयंक मित्तल की सफलता का राज? जानें यहां  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *